👽अंतिम इंतजार 👾मौत👹कमल भंसाली

“मौत”
मेरे लिए पावन
उसका दामन “शिव” सावन
जीवन केअंतिम क्षोर पर
अस्त होते जिस्म का आह्ववान
मौत तो है “महान”

जन्म के बाद का
एकमात्र सत्य
“मौत”
बाकी दुनिया सिर्फ अस्तित्व
पल में समाई अंतिम सांस
बेकरारी से
जिसका करती इंतजार
मानो बिछड़ी प्रेमिका की
आलिंगन के लिए तैयार
उसके बिना जीवन का चलना बेकार
यही मेरा “मौत” से एकमात्र इकरार

समझ मेरी
अक्सर कहती मुझसे
“मौत” से न कभी डर
सही कर्म हो तो बनाती निडर
तय करती आस्थाओं का अगला सफर
मकसद से मिले अगले जीवन की नई डगर

“मौत”
धर्म कर्म के गुलशन की बहार
अपना लेना ही सही जब लेने आये द्वार
जाना तय तो फिर “मौत” की क्या फिकर
रोते आये हंसते ही जाना रखो ऐसा जिगर
“क्या तेरा क्या मेरा” बने रहे दिलखुश हमसफर
जब कहे मौत चल मेरे साथ चलने को रहे तब तैयार
अच्छा ही लगेगा कर्मो का अंतिम ये आत्मिक सफर
दोस्तों, “मौत” मेरे लिए
सुनहरी उज्ज्वल अंतिम डगर
उसका आगमन ही अब “इंतजार”
रचियता: कमल भंसाली

🌷मंगलकामनाएँ उन्नतमय नववर्ष की🌷कमल काव्य सरोवर🌻 कमल भंसाली🌻 शायर भंसाली द्वारा

🌹 ⏰🌹 दोस्तो, “कमल काव्य सरोवर” ब्लाग साइड (wordpress.com )तीन साल की अवधि में अब तक लगभग चालीस देशों से 25000 लोगों के द्वारा दृश्यत किया गया और 110 फॉलोअर से जुड़ा और लगभग 500 रचनाओं से सजा इसके लिए सभी को नववर्ष की शुभकामनाओं सहित अभिवादन करता है। आप सभी हिंदी भाषी साहित्यिक प्रेमियों का साथ सुहाना और मन प्रफुल्लित करने वाला हमें सदा मिलता रहे, ये हमारी भी प्रार्थना है। ‘शायर’ मेरी सिर्फ जीवन साथी ही नहीं है, वो मेरी सारी रचनाओं का अंतिम सम्पादन करती है, उसे भी नववर्ष की मंगलकामनाए। ” नया वर्ष शुभता भरा हो आपके लिए सफल वर्ष रहे” शुभकामनाओं सहित✍💘कमल भंसाली

नव वर्ष का आया नया सवेरा
चारों दिशाओं में है, उजियारा
हर दिशा से एक ही है,प्रार्थना
हर जीवन सुखी हो, यही कामना
नव वर्ष…..
🌞

नए आयामों का हो, हर नया सफर
पथ में हो कई सफलताओं की डगर
रिश्तों में छाई रहे मृदुलता की बहार
सद् भावनाओं के खुलते रहे नए द्वार
नववर्ष….
🎁

हर मानव का हो,प्राणी मात्र से प्यार
अहिंसा का ही हर दिल में हो विस्तार
कल का दुःख, आज में कभी न समाये
ईष्या, द्वेष की भावना कभी मन न लाये
नववर्ष…
🔔

हम उसी राह चले, जहां धर्म के फूल खिले
हमें सदा स्वस्थ, स्वच्छ पर्यावरण ही मिले
प्रयास हो, हर कोई एक दूजे से गले मिले
साल जब ले विदा, तो प्रेरणा उसी से मिले
नववर्ष…
📚

साल यह सबके लिए हो पूर्ण सुखद व परोपकारी
समृद्धि, प्रसन्नता, सम्पन्नता के सब हो अधिकारी
स्नेह, प्रेम, स्वास्थ्य न हो, किसी की कोई मजबूरी
मंगलकामनाये, शुभता की बरसात सदा रहे जारी
नववर्ष…
🌜⭐🌟🌟🌟🌛

(नया साल आप को स्वस्थ, सम्पन्न व सुखी बनाये
इन्ही भावनाओं के साथ नव वर्ष की शुभकामनाएं…🎂.***शायर भंसाली 💝 कमल भंसाली***🎁

01/01/2018

सफर ही तो है, जीवन…मेरे हमसफ़र..कमल भंसाली

सफर ही तो है, जीवन

जो तुम हम
हर रोज करते
चलते चलते
कई ठहराव पर
थोड़े रुकते
उसी दौरान
आपस में मिलते
दूसरे पल
बिछड़ जाते
फिर मिलेंगे
कहकर उतर जाते
अजनबी बन
फिर कहीं
खो जाते
वापस नहीं मिलते
पर सफर
नहीं रुकता
चलता ही रहता…..

ये सफर बड़ा
अनजाना
पर लगता
बड़ा सुहावना
कभी रहस्य की
गुफाओं से गुजरना
कहीं शंकाओं
कि नदियों पार करना
खिड़की के
उस पार के
दृश्य पल पल
तेजी से पलटते
कभी रौशनी
में अँधेरे भागते
कभी उजालों में
धुंआ उड़ता
पर सफर नही रुकता
चलता ही रहता…

उसी पल
हम हंसते, रोते
पर, साथ रहते
कभी, तुम खिलखिलाते
कभी, मैं चहकता
अतीत की गर्मी
भविष्य की सर्दी
वर्तमान की उमस में
दिल घबराता
मायूसी के जब
जंगल आते
उदासियों की शाम में
कितने वीराने दिखते
रात की
तन्हाई में
भ्रम की
सीटिया
सुनाई देती
दहसत सी होती
नींद के आगोश में
तेज धड़कनों की
लय बढ़ जाती
दिल घबराता
पर सफर नहीं रुकता
चलता ही रहता..

मंजिल के
हम मुसाफिर
किसको कहां जाना
पूछते रहते
दूसरों के मकसद में
अपना अस्तित्व
तलाशने लग जाते
धीमा होता सफर
हड़कंप मचा देता
कल का अपनापन
आज बिखर जाता
सच तो यही है
सब समेटने के चक्कर में
यात्री अकेला ही
रह जाता
पर सफर नहीं रुकता
जीवन पथ, गामिनी का
सफर, मेरे हमसफ़र
चलता ही रहता…..

कमल भंसाली