💖अपना भारत महान💟कमल भंसाली

जहां सहज सरल जीवन अपना
जहां सुंदर मधुर रिश्तों में अपनापन
जहां जन्म लेकर भाग्य को भी हो गर्व
जहां उल्लास और उन्नति के हो कई पर्व
जहां धर्म संस्कार नैतिकता को हो सम्मान
दोस्तों.. वह देश है अपना भारत महान

जहां सदियों पुरानी सुदृढ़ संस्कृति
जहां अपना पूरा वैभव लुटाती प्रकृति
जहां सूर्य की प्रथम किरण से आती जागृति
जहां अंहिसा की जाती खेती
जहां सर्वधर्म की होती उन्नति
दोस्तों.. वह देश है अपना भारत महान

जहां राम रहीम ईसा सभी का वास
जहां गंगा यमुना के संगम का निवास
जहां हल्दीघाटी जैसी वीरता का साहस
जहां बुद्ध, नानक, महावीर वाणी का सूवास
जहां हर घर में धार्मिक संस्कारों का प्रवास
दोस्तों… वह देश है अपना भारत महान

जहां नारी हों पूर्ण संस्कारी
जहां रहते दानी और परोपकारी
जहां रामायण,गीता, बाईबल और कुरान
जहां का संविधान कहता हर धर्म समान
जहां हर भाषा और जाति का पूर्ण सम्मान
दोस्तों.. वो देश है अपना भारत महान

जहां धर्म अनेक पर तत्व सर्व एक
जहां जियो और जीने दो का विचार
जहांआस्थओं को होता पूरा अधिकार
जहां गाय को माता जैसा मिलता प्यार
जहां धरती को मिलता माँ का अधिकार
दोस्तों.. वो देश है अपना भारत महान

जहां हर नागरिक को समान अधिकार
जहां सीमा पर हर कोई मरने को तैयार
जहां तिरंगा लहराये हर आत्मा पर
जहां जन गन मन से करते सब प्यार
जहां देश को हो जरूरत सब बोले बंदे मातरम्
दोस्तों ..वो देश है अपना भारत महान

रचियता ✍कमल भंसाली✍

वाह रे, इंसान…तू है, महान …..कमल भंसाली


कहते है, ज्ञानी
“एक”, पल का हंसना
“दो”, पल का रोना
जिंदगी तो है
स्वर्ण माटी से
बना सुनहरा खिलौना
खेल खिला रहा
जन्म से मरण का
हर पहलू समझा रहा
पर, समझना
तेरे, बस में
कहां रहा
वा रे, इंसान… तू है, महान

देख, गंगा का किनारा
छम छम करते उसके धारे
मचलती, उन्मत उतार्य लहरें
मस्ती में झूले
पर, न भूले
ऊपर, काला आसमां
कब बदल जाय
बादलों का रुख
टप टप करते
कब बरस जाए, दुःख
जान कर भी अनजान
वाह रे, इंसान…तू है, महान

कल क्या होगा
फ़िक्र इतनी क्यों ?
जीवन की
बच्ची साँसों की गिनती, क्यों ?
यही, एक पल
ख़ुशी और गम
साथ ही रहते
छलना ही, दोनों का काम
जुदा, जुदा
इसलिए दिखते
इनके लिए, तेरा
इतना अज्ञानी, अभिमान
वाह रे, इंसान….तू है, महान

आसक्ति से देख
तन कितना, सुंदर तेरा
सत्य के दर्पण में
निखरे चेहरा
नग्न, लालसाएं करती
हाल, बेहाल
खेलती कम
खरोंचति ज्यादा
जैसे कोई,
तूं है, शतरंज का
अदना सा प्यादा
फिर भी इतना, इतराना
वाह रे, इंसान… तू है, महान…..

कमल भंसाली