👌श्रद्धांजलि👌जैन मुनि व राष्ट्र संत श्री तरुणसागरजी को 🙏कमल भंसाली

जैन मुनि व राष्ट्र संत श्री तरुण सागर जी के देवलोक पर आत्मिक श्रद्धांजलि। देश ने एक सच्चे क्रांतिकारी संत को खो दिया। उनकी किताबो में संग्रहित ” कड़वे वचन” जीवन की कड़वी सच्चाइयों के लिए अमृत का काम करने की क्षमता रखती है। ऐसे राष्ट्र संत का स्थान शायद ही दूसरा कोई निकट भविष्य में ले। श्रद्धांजलि सहित वन्दामि। ✍कमल भंसाली

” जिंदगी वो नहीं थी
जिसमे मैं झांका करता
जिंदगी वो ही थी
जो तुम्हारे उपदेशो से पाता
कल तुम थे जिस्म सहित
आज आत्मा में बस गये
नायाब हीरा थे चमन के
आज हर अंगूठी में गढ़ गये
है
“राष्ट्र सन्त”
तुम नहीं जानते जग को क्या उपहार दे गये
नमन करता, वंदना करता
अदृश्य हुई आत्मा को प्रणाम करता”…कमल भंसाली