💝महफ़िल तुम्हारी जन्नत हमारी💝 ✍कमल भंसाली

“महफिल सजी देखकर तुम्हारी
दिल तो कहता ठहर जाने को
थमती सांसों की कीमत चुकानी भारी
वक्त भी कहता महफिल छोड़ जाने को”

भुलेंगे नहीं हसीन अदाएं, तुम्हारी गुस्ताखियां
ये कनात, ये शहनाइयां और अधूरी मस्तियां

ये महफिले मिले आगे
ख्वाईस ये लेकर जाएंगे
तुम इंतजार न करना
अब जन्मों की है बात
माफ करना बची यही आखरी रात
जिसमे है थोड़े अधूरे बिगड़े अफ़साने
अदद नफस और बचे बिखरे से जज्बात

प्यार जिन्दगी को हमने बहुत किया
मौहब्बत पर ही सदा एतवार किया
गम को भी सिलसिले वार इकरार से जीया
कभी खूबसूरत हुए लम्हों को भी याद किया
तुम्हारी बेवफाई को दिल न माना उसे भी गले लगाया
हर नग्मों से इस महफ़िल को भी सजाया

कल को हमने नहीं देखा
कल तुम हमें न देखो
हसीन वादियों में उठे जब धुंआ
समझना कुछ न कुछ तो हुआ

हम न हो पर महफ़िल सजाकर रखना
दौर वो ही रहे, एक जाम जरा बचा कर रखना
आरजू रब से करना दरवाजा मधुशाला का खुला रखना
बची प्यास की कसम वापिस आने की फरियाद न करना

फुरकत में न हो गफलत उल्फत हो हमारी बरकत
राहबर शबनम की आब सी आरजू हो मेरी मन्नत
रब ही अब आशना, नाखुदा परेशां हो मेरी यह जन्नत
अहलोदिल गम न कर, तेरा मुस्कराना अब जहां की मालियत
रचियता : कमल भंसाली

🍸सफर है प्यार भरा जिंदगी का🍻 कमल भंसाली

बयां नहीं करते वो कभी दिल की दास्तां
सफर जो करते देकर प्यार का वास्ता
कितना कुछ राह में बिखर निखर जाता
फिर भी दिल तो प्यार के नगमें ही गाता
💕💘💕
जिंदगी के दर्पण में मौहब्बत को निहारिये
दर्द को सौगात समझ कर दिल से अपनाइये
मुस्कराहट को सुर्ख लबो पर पनाह दीजिये
महफ़िल को सिर्फ नग्मों की सौगात दीजिये
🎷🎷🎷
गुजारिश है मायूसी से वफ़ा न कीजिये
अति अधिकार जिंदगी को कतई न दीजिये
कांटो को चुन गुलों को इल्जाम न दीजिये
पांव तो नाजुक होते दर्द को अहसास न दीजिये
🏇🏇🏇
सिर्फ हसरतों से ही मौहब्बत कब फलती फूलती
खुदगर्जी की चाह में अपनी नजर भी पराई दिखती
दस्तूरों का भी एक इतिहास है उस पर नजर डालिए
जिंदगी साँसों का तराना हवाओं को सलाम कीजिये
⛹⛹⛹
जुदा होना आज नहीं तो कल की होगी हकीकत
सच्ची मौहब्बत ही होगी खुदा से की पाक इबादत
फलसफा है जहां का सिर्फ जीने की होती है जरुरत
वफ़ा की इंतहा कुछ और पर जिस्म की चाह है मौत
🎎🎎🎎
चाहे इतनी क्यों मगरुर हो जाये मशहूर हो जाये
इतने क्यों गिर जाए कि वफ़ा भी दागदर हो जाये
बदबख्त बदन बिन जन्नत के ही बेनाम हो जाये
बदनसीबी तमाम उम्र को दोजख की सैर कराये
♨♨♨
रुखसत हो जाएंगे कल खुली पलको को बंद कर
चंद दिन का जीना क्या करेंगे खुदगर्ज बन कर
पैगाम प्यार का देकर जाना याद करेगा जमाना
क्या पता फिर कभी किसी रुप में फिर हो आना
🎨🎨🎨
ये जिंदगी किस तरह जीना जिसने भी सही से जाना
इतिहास गवाह न होकर भी लगता जाना पहचाना
धरा के चाँद सितारे न बने कोई शिकवा नहीं करना
इंसान बन आये इसलिए शैतान बन कर नहीं जीना
🔪🔪🔪
रचियता✍ कमल भंसाली