😁जरा मुस्कराइये😀 कमल भंसाली

“मुस्कराहटों” की अगर वजह होती
तो यकीन कीजिये
“जिंदगी” दिल की दुनिया
से दूर ही रहती
फिर शायद
अजनबी राह में स्वयं चलने को
बिन मकसद मजबूर होती
कुछ नहीं कहती
चुपचाप
बेवजह साँसों का साथ निभाती
इसलिए जरा दिल की भी सुनिये
मुस्कराने की वजह मत ढूंढिये
सिर्फ
“मुस्कराइए”
🌹
कुछ लम्हें बहुत खूबसूरत होते
उनमें जीने के अंदाज निराले होते
निगाहों में हजारों हसीन सपने तैरते
आस्थाओं के “कमल” चाहे उनमें कुछ ही खिलते
मुस्कान मुखरित गुल हो
चमन को गुलिस्तां बना देते
जरा धड़कते दिल से सोचिये
बेवजह भी कभी
सिर्फ
“मुस्कराइये”
🌹

माना हर चुभन से दिल घबराता
जब कभी
जहां की चट्टानों से टकराता
“प्यार” की ख्वाईस रखने वाला क
नाजुक दिल
अपनी ही उदासियों में बिखर जाता
यकीन मानिये
एक मुस्कान से उभर भी जाता
जरा अपने दिल की सुनिये
मुस्कराने की आदत पैदा कीजिये
सदा मुस्कराइये
सिर्फ
“मुस्कराइये”
रचियता✍ कमल भंसाली

🐮ख़ामोशी🐽

image

मेरी खामोशियों के उस पार
एक दरिया बहता
उस में कभी मृदुल नीर रहता
शायद वो था मेरा प्यार
आज वहां
कुछ घायल पक्षी आते
बीती यादों के
पंख फड़फड़ाते
फिर तन्हा उड़ जाते
मेरी खामोशियो….

तन्हा होकर
दिल कहता
जिंदगी को पता नहीं
बहना इतना आसान नहीं
स्वार्थ के जंगलो से
निकलना आसान नहीं
लालच की चट्टानों से टकरा
लहरें रास्ते बदल लेती
नदी का साथ छोड़ देती
मेरी खामोशियों…..

सुख गया, नयनों के
दरिया का वो जल
बहता जिसमें प्यार सजल
प्यार, अब प्रस्तर दर्द बन गया
अहसास कहीं और रह गया
भ्रमित हर सपना टूटा
कहने को आज भी सब मेरा
पर वो है, मेरा अपना अँधेरा
जहां खामोशी का है, आशियाना
उस पार तो अब मिलेगा
कल का चमन, आज का वीराना
मेरी खामोशियों….

अब मेरी खामोशियां
अक्सर कहती
नदी से हम ज्यादा गहरी
जो बचा, हमें दे दो
बस, मुस्करा कर
जरा, यह कह दो
हम ही तुम्हारा प्यार
न बहे, कोई बात नहीं
पर,न बिखर
तुम्हें ही तराशती
विवशता के जंगल से
चलो, दूर ले जाती
मेरी खामोशियों…..