👍घटना👎कमल भंसाली

घटनाओं से संसार बना
बिन घटना के जग सूना
हर घटना की अलग लय
कहीं सृजन और कहीं क्षय

सुदर्शन चक्र की तरह इसकी महिमा
न इसके लिए दुरी, न इसकी कोई सीमा
कहीं प्रहरी, तो कहीं है, जग संहारक
कहीं कर्मो का फल, कहीं भाग्य प्रचारक

हर पल, कुछ घटना तय
कहीं खुशी, कहीं पर भय
इसमे जीवन की हर लय
हर कर्म का फल करें,तय

घटनाओं से ही शुरु होती, जिंदगी
घटना में जीवन का पूरा समाया सार
बिन घटना भी है, एक घटना प्रकार
उसी में रहता , एक लक्ष्य भरा संसार

एक क्षण में बादल बरसते
दूसरे क्षण बिजली चमकाते
उमर घुमड़ सब को डराते
पर कुछ नहीं करते, चले जाते

घटना की हकीकत कोई भी न जाने
न ही कोई इसकी उपलब्धि पहचाने
शुभता का चिंतन ही इसका उपचार
घटना तय है, सदा चिंतन करो साकार

कहते है, घट घट के वासी की है, पत्नी
नाज नखरों में रहती है, उसकी संगिनी
कुछ न कुछ कर, अपना रुप सदा दर्शाती
एक अदा से, संसार का स्वरुप समझाती

आज हम है, कल नहीं, यह भी एक घटना
जीवन, मृत्यु का खेल, दोनों को ही जीतना
इसी कशमकश में, ख़ुशी और गम करते कुश्ती
समझना जरुरी, घटने में ही समायी, हमारी हस्ती
****कमल भंसाली

“घटना” ****कमल भंसाली

image

घटनाओं से संसार बना
बिन घटना के जग सूना
हर घटना की अलग लय
कहीं सृजन, कहीं क्षय

सुदर्शन चक्र की तरह इसकी महिमा
न इसके लिए दुरी, न इसकी कोई सीमा
कहीं प्रहरी, तो कहीँ है, जग संहारक
कहीं कर्मो का फल, कहीं भाग्य प्रचारक

हर पल, कुछ घटना तय
कहीँ ख़ुशी, कहीं पर भय
इसमे जीवन की हर लय
हर घटना का फल करें,तय

घटनाओं से ही शुरु होती, जिंदगी
घटना ही जीवन का पूरा है, सार
बिन घटना भी है, एक घटना प्रकार
उसी में रहता है, एक लक्ष्य भरा संसार

एक क्षण में बादल बरसते
दूसरे क्षण बिजली चमकाते
उमर घुमड़ सब को डराते
पर कुछ नहीं करते, चले जाते

घटना की हकीकत कोई न जाने
न ही कोई इसकी उपलब्धि पहचाने
शुभता का चिंतन ही इसका उपचार
घटना तय है, सदा चिंतन करो साकार

कहते है, घट घट के वासी की है, पत्नी
नाज नखरों में रहती है, उसकी संगिनी
कुछ न कुछ कर, अपना रुप सदा दर्शाती
एक अदा से, संसार का स्वरुप समझाती

आज हम है, कल नहीं, यह भी एक घटना
जीवन, मृत्यु का खेल, दोनों को ही जीतना
इसी कशमकश में, ख़ुशी और गम करते कुश्ती
समझना जरुरी, घटने में ही समायी, हमारी हस्ती
****कमल भंसाली