🍂बेचैनिया 🍂उर्दु और हिंदी सम्पन्न मुक्तक शायरी युक्त रचना✍ कमल भंसाली

बेचैनिया मेरे दिल की बहुत कुछ कहती
आज भी उनकी सूरत इन निगाहों में रहती
बिन कुछ कहे वो इस जिंदगी से दूर चले गये
जिस्म को छोड़ गये रुह को साथ मे ले गये
बेचैनिया…..

ख़ुदा उनकी खैर करे मेरी तरह उन्हें मजबूर न करे
हसरतों का कहना कल से दिल उनका दीदार न करे
वफ़ा की कसमों में रुस्वाई अब और इंतजार न करे
दिल ही टूटा है, जाम तो आज भी मुझे बेकरार करे
बेचैनिया….

कयामत हुस्न गुलजार हो दिल पर जब छा जाता
आईना प्यार का बन चेहरे को नूरमहल बना देता
बेवफाई का एक पत्थर दिल के शीशे को तोड़ देता
दस्तूर प्यार का प्रेमित दिल टूट कर जुड़ नहीं पाता
बेचैनिया…

आश्कि दिल को कौन समझाए, मौहब्बत न कर
जग में और भी बहुत कुछ उन्हीं की इबादत कर
हुस्न जलजला दिल का परवान की खैर न करे
शमा में परवाना जल कर भी उसकी आरजू करे
बेचैनिया….

ख्वाईसे अब कहां रह गई उम्र उनके इंतजार में गई
उदासियों के लम्हों में उनकी धुंधली तस्वीरे रह गई
लगता है चांदिनी भी चांद के आलिंगन में सो गई
कसम से मकतूल दिल मे उनकी यादे खाक हो गई
बेचैनिया….

टूटी हुई हसरतों को लेकर जहां से दूर चला जाऊंगा
परछाइयों के श्मशान में दफन भी कर दिया जाऊंगा
तयशुदा जिंदगी जुस्तजू दीदारे यार की अब न करे
कोई नाजायज पलश्त नयन बूंद जनाजे पर न गिरे
बेचैनिया…..

कलम से✍💔कमल भंसाली

मोहब्बत की इबादत…..कमल भंसाली

image

अंदाज “मोहब्बत “का कभी बया नहीं होता
कभी, बेवफाई, कभी रुसवाई भी दे जाता
चेहरा मुस्कराता, पर दिल अंदर से घबराता
न समझने वाली बात, नासमझ समझ जाता

कहते है, दस्तूर हजारों होते मोहब्बत में
यहां तक की, जीने का अंदाज बदल देते
सोये, नयन में हरदम प्रियतम ही लहराते
साँसों के तूफ़ान से लब भी थरथरा जाते

कहतें है, मोहब्बत बदल देती सोई तकदीर
इसके लिए उठ जाते भाले, तलवार और तीर
बिछड़ी गई तो, तो आँखों से निकलता नीर
मदहोशी में निकल जाता, दिखा दू दिल चीर

मोहब्बत आसां नहीं, कह गए गए इसके शहीद
इसमे होता प्राय: रोजा, कभी कभार ही होती ईद
पाँव जमी पर नहीं रहते, उड़ता रहता बेखबर दिल
साजन की आहट पर लगता, दूर है, अभी तो मंजिल

इश्क की नहीं कोई इंताह,इल्जामों से रखे दूर
अथाह शक का घेरा करता कभी इसे कमजोर
जुदाई के क्षणों में मायूस होकर होता बेकरार
प्राणों की परवाह नहीं, पर इश्क रहे सदाबहार

आरजू दिल करे, नयनों में छायी रहे मोहब्बत
पाक दामन रहे, उसी पर होती इसकी इनायत
जिसने मोहब्बत को समझा, वो जन्नत का राही
एक बून्द प्यार मिटा दे ,नफरत की हर बात कही

कहते है, खुदा की बेटी, हर प्राणी के जिगर में रहती
हवस की शिकार हो, अपने अस्तित्व को सदा कोसती
कोई,करतूत न हो ऐसी, जो इसे शर्मसार, बदगुमा करती
उसकी आहों में दोजख, बाँहो में कहते,”जन्नत” मिलती

अंत नहीं, प्रारम्भ समझना, मोहब्बत है, खुदा का फूल
प्यार मानव तेरा,जीवन का साज श्रृंगार, जरा इसे संभाल
बारिश का वंसुधरा से प्यार, देता जीवों को अनेक उपहार
हम उसके बन्दे, उसके बिना बताओ,,कौन करेगा उद्धार ? …..कमल भंसाली