💑प्रेम यात्रा👨‍❤️‍👨✍️कमल भंसाली

जलन जब सीने में हो
आंखों में बहता हो
जब निशब्द पानी
बता !
महबूब मेरे
जिंदगी
कैसे तुझे भूल जाएगी
जब याद तेरी आयेगी
तो लहराती तेरी तस्वीर
कैसे मेरा दिल बहलायेगी
💌
आज तूं नहीं
कल मैं नहीं
कोई बात नहीं
तेरे जज्बात ही सही
इस जन्म में मुलाकात
फिर नहीं
तो भी
कोइ बात नहीं
पर
तेरे बिना
जिन्दगी से डर लगता
मौत से तो कभी नहीं
बिन तेरे जीना सहज नहीं
मौत से कोई परहेज नहीं
💟
मानता
प्रेम की परकाष्ठाता
एक विश्वास
एक आस्था
जो
मिलन में कदापी नहीं
घावों की गहनता
जलन में कभी नहीं
पर जानले
मेरे सनम
जुदाई मेरे लिये
दर्द की
कोई सौगात नहीं
है,
ये तो सिर्फ
एक मकसद
एक प्रेममय यात्रा
जिसका कोई
आदि न कोई अंत
क्योंकि
मैं ठहरा
प्रेम पथ का राही

रचियता ✍️…..कमल भंसाली

नफरत दिल में इतनी✍💝 कमल भंसाली

नफरत दिल में न इतनी बसाये
कि संसार में अनचाहे बन कर रह जाये
जीना सब का बराबर का हक
हो सके तो दिल को यह बात समझाये
इंसान है इसलिए सही होगा
इंसानियत की राह के ही मुसाफिर कहलाये
नफरत..

हर धर्म यही कहता मैं सब में एक समान सा रहता
तुम फिर क्यों इसे अलग अलग होने का संकेत देते
कितने अच्छे कितने बुरे अगर स्वयं को तुम जान लेते
मैं जीवन का सार बन तुम्हारे आत्मा मे ही सदा बसता
नफरत..

बातें बड़ी बड़ी करके खेल कई प्रकार के खेलते
आडम्बरों की छाया में क्यों इतने पाप को झेलते
स्वयं समझने का दावा कर स्वयं ही अनजान रहते
स्वार्थ में नैतिकता की राह एक कदम भी नहीं चलते
नफरत…

सीधा सा जीवन कम जरूरतों की चाहत रखता
विलासिता के मटमैला चोले में वजूद फंस जाता
हसरतों के वश में आकर वो सब कुछ भूल जाता
माया जाल में फंस जाता वो इंसान नहीं रह पाता
नफरत…

फलसफा जीवन का इतना साँसों का राज जितना
जीना है सही तो हर कर्म में अहिंसा का साथ रखे
सत्य की सीढ़ियों से सफलता की मंजिल को पाना
मानवता ही धर्म इसे ही जीवन भर ये विश्वास रखे
नफरत…..
रचियता✍ 💖 कमल भंसाली

🌴आत्मिक आधार🌴कुछ विचार🌿कमल भंसाली🌿

जीवन एक आस्था है
एक आत्मिक विश्वास है
निरन्तरता से भरा प्रयास है
समझ मे आ जाये
तो सार्थक हो जाये
न आये तो एक भटकाव है।
💑
जन्म के बाद एक ही निर्विवाद सत्य
“मृत्यु” ही है, जो स्थायित्व कि सरंक्षता में
अनिश्चित होते हुए भी निश्चित है।
👆
नियति के अनुसार ही बुद्धि का महत्व है, बुरे समय मे श्रेष्ठ बुद्धि भी अपना असर खो देती है, अच्छे समय मे निम्नतम बुद्धि वाला भी सर्वेश्रेष्ठ प्रयास कर जाता है।
मापदण्ड जीवन का यही है, कोई भी अपने आप को कभी सर्वेश्रेष्ठता के अंहकार से सुशोभित करने की चेष्टा न करे, नहीं तो इतिहास गवाह है, पतन का रास्ता भी पास से गुजरता है।वैसे जीवन के हश्र का जिक्र भी क्षण के दुःख का निर्माण करता है।
🙏
सही यही है, जीवन अद्भुत उपहार है, प्रकृति का और सब प्राणी का अपना समर्पित अधिकार उस पर है, अतः भगवान महावीर के इस कथन में अपना जीवन समर्पण कर देना उचित होगा, 👉 स्वयं भी जियों और दूसरों को भी जीने दो 👈 👉 Live & Let Live☝
🍀🐞
किसी भी तरह के नहीं खत्म होनेवाले मतभेद या संधर्ष का एक मात्र अचूक निदान “क्षमा” ही है, जिसका उपयोग आत्मिक पवित्र व्यक्तित्व वाला ही कर सकता है, क्योंकि क्षमा “वीरस्य भूषणम” है। साधारण व्यक्तित्व वाला तो सिर्फ उसकी बातें ही कर सकता है, तभी तो सांसारिक और पारिवारिक असहनशीलता बढ़ रही है, और आंतकवादी और अलगाव वादी शक्तियां इसका भरपूर प्रयोग कर असुरक्षा का माहौल तैयार करने में सफल हो जाती है।
🌸
स्वास्थ्य जीवन की सबसे मुख्य जरुरत है, साधन उसकी आंकाक्षाओं की पूर्ति मात्र है, पर देखा गया है, मानव स्वभाव साध्य से ज्यादा साधनों को महत्व देकर अपने ही बनाये जाल में मकड़ी की तरह उलझ जाता है। जिसमें से निकलना उसके लिए अंतिम समय तक कठिन हो जाता है। इस तरह की लापरवाही जब ज्यादातर उच्च शिक्षित लोगों से होती है, तो खेद होता है कि आखिर शिक्षा की बुनियाद में जीवन के प्रति इस लापरवाही का अंजाम सही ढंग से क्यों नहीं बताया जाता।🌷 🌸कमल भंसाली🌸

★★आस्था का फूल★★कमल भंसाली

image

अपनी ही मंजिल का हूँ, दीवाना
उसी राह का मस्त सा हूं, परवाना
सही राह पर मुझे चलते ही जाना
क्या फर्क पड़ेगा, दुश्मन बने जमाना

एकपथ की कठिनता से नये रास्ते बनते
आलोचना से ही गंभीर पुष्प जन्म लेते
मासूमियत से ही आता हर रोज सवेरा
कैसा भी हो अन्धेरा ? सपना है, सुनहरा

जो दुनिया की करते परवाह, वो ठहर जाते
न वो जीते, न वो मरते, बुत बनकर रह जाते
कौन किसका ? सम्बंधों में प्यार जो तलाशते
हकीकत में वो दर्द के काँटों से ही दामन भरते

कल के अफ़साने, आज काम नहीं आ सकते
शीशे के घर में रहकर पत्थर नहीं फैंक सकते
निर्लोभ, निर्लेप को डर भी ख़ौफ़ नहीं दे सकते
अस्तित्व के भय से, कभी मंजिल नहीं पा सकते

कहते है, बिगड़ी हुई चाहते जब सुधर जाती
जिंदगी कुछ विशेष पूरक पहचान बन जाती
दीप के लिए बाती, तैल में डूब मगन हो जाती
उजाला बन अंधेरो को कुछ अहसास दे जाती

मस्त मस्त मुसाफिर, मैं अपनी ही राहों का
क्यों परवाह करु, खुदगर्ज दुनिया की बाहों का
सफर मेरा है यह है, कर्मफलों से पराग पाने का
समझ गया खेल है, जिंदगी, शमा और परवाने का

चल रहा आज, कल तक हद दुनिया की पार कर जाऊंगा
जाने से पहले, यकीन कर दुनिया, तुझे क्षमा कर के जाऊँगा
इतनी सी राय मेरी, गैर की खिड़कियों में न करे तेरे नैन प्रवेश
फूल ही चुनना है, “कमल” का, तो फिर अंदर का कीचड़ ही तलाश…..कमल भंसाली

स्वर्णिम पल….कमल भंसाली

है, जिन्दगी के चाहे चार दिन
जीना तो पड़ेगा हर ‘पल’, हर क्षण
चाहे, जहर है, या अमृत जीवन
पीना तो पड़ेगा, हर ‘पल’, हर कण

‘पल’, जीवन सफर का एक हि रास्ता
राही को चलना, मंजिल का वास्ता
न यहां आज, न परसों,न ही कोई कल
जो है, वहीं है, यह निष्ठांत अछूता ‘पल’

अपरिचित सा भविष्य, हर ‘पल’ में रहता
मनमोहक, मधुर बन हर ,’पल’ छिन लेता
रातों की नींद में सितारे तक गिनवा देता
बड़ा जालिम, न जीने देता, न मरने देता

बुलन्दियों की गहरी घाटी में विलीन वर्तमान
बहुत कुछ देकर जाता, पर न करता अभिमान
सन्देश ही भेजता, जो आज, वो नहीं होगा कल
देख, समझ कर इंसान चल, आगे है, दूसरा ‘पल’

समझने लायक होता है, ‘पल’ का हर कमाल
हर ‘पल’, करता आशा और निराशा का निर्माण
देखते युग बदल जाता, पर रहता चंचल ‘पल’
उम्र को तराजू में तोल देता, वो ही है, यहीं ‘पल’

वर्तमान का हर लेखा, देता इतिहास को सौंप
जानेवाल ‘पल’, कितना निरहि, बिन संताप
इस ‘पल’ को जानना, यहीं है समय, यही वक्त
काल का निर्माणकर्ता, क्षणिक, पर पूर्ण सत्यत:

‘पल’ से बन्धी, हर सांस की डोर,
इसी से शुरु होती, आभामय भोर
जागों तो आएगा, सुरमई सवेरा
नहीं तो जिंदगी में, रहेगा अंधेरा

सच है, हर ‘पल’ नहीं सुनहरा
हर ‘पल’ में राज छुपा है, गहरा
न कोई इसका नाप, न हीं तौल
मणिमय ‘पल’, बिन मूल्य अनमोल

‘पल’ विश्वास, ‘पल’में समायी आस्था
‘पल’में ही आशा, पल में ही निराशा
पर, ‘पल’ का नहीं , किसी से वास्ता
‘पल’ तो है, प्रभु तक पँहुचने का रास्ता

मैं नहीं कहता, कहता हर ‘पल’
जीवन राही, मेरे साथ चला चल
देख दूर नहीं, तेरी प्रतीक्षित मंजिल
आज नहीं तो कल कहेगा, ‘स्वर्ण पल’
…..कमल भंसाली