🌺सरस्वती वंदना🌺 कमल भंसाली

वन्दना माँ वंदना
असत्य जीवन को दो मुक्ति का दान
वीणा वादिनी मां लो मेरा सज्ञान
हंसवाहिनी उर आनन्द का दो वरदान
वंदना मां वंदना
🌺🌺🌺
दिल में अगर है सच्ची भक्ति
मां बढ़ा दो जग में भारत की शक्ति
हर जीवन में ज्ञान की भक्ति
बढ़ती रहे सही आस्थाओं की आशक्ति
जीवन न हो चाहे महान
इंसानियत का रहे ज्ञान
मां तुम हो महान
वंदना मा वंदना
🌺🌺🌺
बसंत का आगमन
सुन्दरता का सही मूल्यांकन
पवित्रता का सही आंकलन
जीवन मूल्यों का पूर्ण संचालन
उल्लासित अनुशासित हो आत्मा
ये ही दे दो जरा सा विज्ञान
सकल सफल हो हर प्रार्थना
वंदना मां वंदना
🌺🌺🌺
अज्ञानता के अंधेरो के
श्वेत साधारण आराधना के फूल
करना जरा स्वीकार
बढ़ा दो जीवन का आकार
कर दो दूर हर मन का विकार
मानव मन बन जाये निर्मल नीर
जीवन में रहे सदा मंगलमय भोर
बहे स्वस्थ, सम्पन्न पवन जो न कभी हो अधीर
ऐसे जीवन की ही रहे सदा भावना
मंगल रहे सब की हर कामना
वंदना मा वंदना
🌺🌺🌺
✍️ कमल भंसाली

Advertisements

👨‍👩‍👧‍👧रिश्तों का बाजार ✍️कमल भंसाली

“रिश्तो” के बाजार मे
दुनिया के “व्यवहार” मे
तलाश है अपने प्यार के अस्तित्व की
जीवन में उनके होने के महत्व की

माना, इस बाजार की महिमा निराली
अनोखी होती इसकी कार्य प्रणाली
यहां सब कुछ बिकता
पर सही कुछ भी नहीं दीखता
जो दीखता वो तो एकदम
“सस्ता” भी नहीं मिलता
जो नहीं पसंद किसी को आता
वो दुकान की धरोहर बन
” पुरानी पहचान ” कहलाता

ऊपरी मान समान अनोखे उत्पादन
ऊंची दुकान फीके पकवान
चलती मुद्रा है ‘झूठी शान’
ठग कर भी लोग नहीं होते यहां परेशान
‘रिश्ते’ ही होते आखिर धरती के भगवान

देखो देखो कितने है यहां महान
गले मिलने से लगता
हो जायेगे अभी हम पर कुर्बान
मानों सब लुटा देंगे ये मेहरबान
शब्दों में होगा प्रेम का इजहार
समय पर नहीं होते दर्शन यार
हां, कुछ ऐसा ही होता
रिश्तों का लुभावना प्यार

खास जरूरत न होगी
जब किसी रिश्ते कि
तो बदल जायेगा इनका व्यवहार
तुम इसे कुछ भी कहलो
दुकानदर तो होता ही ईमानदार
फिर भी
मै तो इतना ही कहूंगा
“रिश्ते ” निभानी की “जिम्मेदारी”
इस दुनिया के बाजार में
सही होती सिर्फ
खरीददार की “समझदारी”
रचयिता ✍️” कमल ” भंसाली

🙌संवेदन पूर्ण सत्य🕸️कमल भंसाली

“दुनिया में अगर कोई सबसे ज्यादा पसंद किया जाता है वह है “दूसरों के द्वारा बोलेजाने वाला सत्य”, यह एक तथ्य है, इससे इंकार करना शायद ही आसान होगा। “सत्य” बोलने वाले लोगो की तादाद नगण्य के आसपास ही अब रहती परन्तु किसी समय झूठ बोलने वालो की गिनती हुआ करती थी, इस बात को आज का आधुनिक युग शायद ही स्वीकार करेगा। आज सत्य को एक हारा हुआ खिलाड़ी या नेता भी स्वीकार करने से झिझकता है। शाश्वत चिंतन करे तो ये बात समझ में आ सकती है कि दुनिया का अस्तित्व पूर्ण सत्य में आज भी समाया है, हम चाहे या नहीं प्रकृति अपने आप को सत्य से अलग नहीं कर सकती। हम कितना ही झूठ का दैनिक जीवन में प्रयोग कर ले पर आत्मा उसे अंदर तक नहीं ले पाती, हमारे बोले हुए किसी भी झूठ पर उसका कराहना महसूस किया जा सकता है।

“हम जी रहे है यह सत्य हो सकता है” परन्तु हम ‘सही’ जी रहे ये संदेहपूर्ण है। सवाल किया जा सकता है, क्या सत्य पूर्ण जीवन जीया सकता है ? उत्तर आज के युग में आसान नहीं लग रहा कारण जीवन की गतिविधिया आजकल झूठ के इर्द गिर्द ही ज्यादा समय बिता रही है। कभी सत्य को जीवन की धुरी समझा जाता था, आज उसकी जगह झूठ ले रहा है, इसे जीवन की विडम्बना ही कहे क्योंकि जीवन आज इसी कारण शायद टूट कर बिखर रहा है। जीवन को आज सब सांसारिक सुविधायें बहुत तेजी से प्राप्त हो रही है और बताना भी जायज नहीं होगा जीवन अपना सास्वत मूल्य खो चूका है, और स्वयं ही किसी त्रासदी का शिकार होकर दुनिया को अलविदा कह देता है। सही भी है, झूठ का भारीभरकम वजन कब तक ढोयेगा।

चाणक्य राजनीति के गुरु थे उन्होंने राजधर्म के लिए कई तरह की चालाकियों का सहारा लिया परन्तु झूठ को दूर रहकर। उनके इस कथन पर गौर करते है ” सत्य मेरी माता है। आध्यात्मिक ज्ञान मेरा पिता है। धर्माचरण मेरा बंधु है। दया मेरा मित्र है। भीतर की शांति मेरी पत्नी है। क्षमा मेरा पुत्र है। मेरे परिवार में ये छह लोग है।” काश आज के राजनेताओं में इस तरह के विचार अपनाये हुए होते तो निश्चित ही भारत आंतरिक रुप से कमजोर और गरीब राष्ट्र की गिनती में न होता।

इंसान का व्यक्तित्व प्रकृति ने बड़ी सूझबूझ वाला बनाया है, सर्वगुण और अवगुण वाले संसार में उसको अपना व्यक्तित्व स्वयं निर्धारण करने का अधिकार भी उसे दिया। सक्षम व्यक्तित्व वाले व्यक्ति के जीवन दर्शन पर सरसरी नजर डालने से इस बात से इंकार नहीं करना पड़ेगा कि बिना असत्य का सहारा लिए वो इस मंजिल तक पंहुचे है।

असहाय सी स्थिति है आज जीवन की, भाग्य से प्राप्त खुशहाली अति अर्थ के दीमक से हर दिन जीवन को छीजत प्रदान कर रही है। पल की मोहताज जिंदगी अर्थ के कारण कटुता भरे वातावरण में कई तरह की शारीरिक और मानसिक बीमारियों के विषालु कीटाणुओं से ग्रस्त हो रही है। इस का प्रमुख कारण हम सब समझकर भी नहीं समझते वो है “अति दौलत की भूख”।
हर रोज हमारे आसपास ही क्या हमारे स्वयं के जीवन मे उसकी कमी या अति, जीवन को संकुचित होने का अनुभव कराती है। जब की जानते है, जब तक जीवन है, तब तक मालिक होने का दावा कर सकते है पर उसके बाद उसका मालिक कोई और स्वतः ही हो जाता। अतः इस सत्य को स्वीकार कर लेना ही सही होता है अर्थ के कारण किसी भी सम्बन्ध को कटुता का अनुभव न दिया जाय। कठिन समय मे आपसी प्रेम काफी फलदायक होता है।

कहते है जीवन की शुरुआत प्रेम से हुई और प्रेम सदा सत्य से संपन्न रहना पसन्द करता है, झूठ से वो सदा नफरत करता है। किसी शारीरिक बंधन के चलते वो झूठ को मजबूरी से सहन करता है। इस तथ्य को रिश्तों की दुनिया में सदृश्य समझा जा सकता है। रिश्तों के बनते बिगड़ते तेवर जीवन को कई तरह से प्रभावित करते है। रिश्तों की मधुरता जीवन को सकारात्मक चिंतन प्रदान कर उसे मजबूत कर सकती है। गलत भावनाओं के बस में होकर रिश्तों में कटुता का संकेत देना मात्र जीवन के पथ को कठोरता प्रदान कर सकता है, अतः रिश्तों के प्रति हमारी संवेदनशीलता में सत्य का अंश सही मात्रा में रखना उचित लगता है। जीव विज्ञानी डेविड जार्ज हस्कल का यह कथन आज के युग अनुसार अक्षरस सत्य लगता है कि ” The forest is not a collection of entities (but) a place entirely made from strands of relationship”.

आलोचना से पीड़ित प्रेम कभी भी जीवन को सुख नहीं देता परन्तु समझने की बात है बिना आलोचना का प्रेम चापलूसी की या गुलामी की श्रेणी में आता है, प्रेम का निम्नतम पतन भी यहीं होता है, इस सत्य को कितना ही कड़वा कह लीजिए पर ह्रदय इसे स्वीकार कर सन्तुलित रहता है। आधुनिक अर्थतन्त्र की इस दुनिया की विडंबना ही कहिये इंसान के पास हजारों साधनों का भरपूर भंडार हर दिन तैयार हो रहा है, शरीर नाच रहा सब कुछ भोग रहा पर मन तो खालीपन का शिकार हो रहा। सबके रहते इंसान जब उम्र या किसी कारण से लाचार होता है तो टूट कर बिखर जाता है और दिल के अरमान दिल मे ही रह जाते, कोई सुनने वाला, कोई मन से सेवा करने वाला नहीं रहता उसके आस पास। इसका एकमात्र सत्य उतर यही हो सकता:

“जो दिया नहीं वो मिला नही
झूठ से सत्य कभी दबा नहीं
प्रेम को साधन नहीं संवेदना चाहिए
सही जीने के लिये इस सत्य की समझ चाहिए”

लेखक: कमल भंसाली ।

👏मेरे प्रभु👏कमल भंसाली✍️

हे प्रभु
खूबसूरती मेरे जीवन को दीजिये
मेरी सारी कमियों को हर लीजिये
पथ की कठिनाइयों को दूर कीजिये
महत्व जीवन का सब समझा दीजिये
👏
हे प्रभु
जिसे अभी तक जीवन समझता रहा
आपको भूल रास्ते नये तलाशता रहा
उनकी हर कमी को ही अपनाता रहा
इस भूल को मेरी आज सुधार दीजिये
👏
हे प्रभु
मानव मन मेरा सदा कमजोर रहा
वासनाओं के फूल ही सूंघता रहा
संयम ही जीवन है ये भूलता रहा
इस भूल का निदान समझा दीजिये
👏
हे प्रभु
असत्य की धुरी पर घूमता रहा जीवन
पथ भटका न मिली कोई सही मंजिल
आदर्शों के गीत तो सदा ही गाता रहा
पर अपनाने से हरदम ही कतराता रहा
जीवन की सही मीमांसा समझा दीजिये
👏
हे प्रभु
जीवन आपका दिया है पवित्र वरदान
समर्पण आप में ही रहे जब तक रहे प्राण
जिस विधि से करुं मैं सही से वापस प्रयाण
उस यज्ञ की सारी रस्में आज समझा दीजिये
👏
हे प्रभु
सकल सफल रहे मेरा यह अनमोल जीवन
हर पथ आपको समर्पित होकर बने पावन
इस जन्म की हर पीड़ा का हो यहीं समापन
गमन पथ को अब मेरी मंजिल समझा दीजिये

👏🏼रचियता और प्रार्थना कार✍️ कमल भंसाली👏

खुशियां ही खुशियां**एक सकारात्मक संक्षिप्त चर्चा 🏃कमल भंसाली

हम यहां अपनी चर्चा हमारे देश के एक विद्वान सी. राजगोपालाचारी के इस कथन के साथ शुरु करते है ” Without wisdom in the heart, all learning is useless.”। सी. राजगोपालचारी भारत में अंग्रेजों द्वारा मनोनीत अंतिम गर्वनर जनरल के साथ साथ एक विद्धवान लेखक, वकील और राजनेता भी थे। उनका उपरोक्त कथन आज के आधुनिक व शिक्षित वातावरण में काफी महत्वपूर्ण दृष्टिकोण जीवन के प्रति इंगित करता नजर आ रहा है। आज शिक्षा का असर जीवन पर काफी देखा जा सकता है, परन्तु जीवन के प्रति सही चिंतन की कमी के साथ। इसके कई कारण नजर भी आते है, परन्तु सार संक्षेप में यही कहना सही लगता है हमारे आस पास जीवन जीने के इतने मकसद तैयार हो गये कि हम अपना असली चिंतन ‘सुखी रहना और प्रसन्नता’ को विस्मृत कर चुके है। परन्तु, पूर्णता से भूलना ‘मुख्य उद्देश्य’ को कठिन होता है क्योंकि सच्चाई देर सबेर सामने आकर खड़ी हो जाती है। जब जीवन में नकारत्मक्ता सदृश्य होती है, खासकर शरीर के मामले में तो जीवन स्वयं ही चिंतन करने लगता है, मैं सब कुछ होते ही सुखी और प्रसन्न क्यों नहीं रह सकता ? इसका जो सबसे प्रमुख कारण है, वो है बिना संघर्ष व श्रम सब कुछ पाने की चाह, हम माने या न माने, ये और बात है।

“संघर्ष” हर एक के जीवन से जुड़ा सिर्फ अति महत्वपूर्ण अहम शब्द ही नहीं यथार्थ है। कोई भी संधर्ष किसी भी तरह की प्रसन्नता प्राप्ति का सबसे पहला प्रयास से लेकर कई प्रयासों की बुनियादी सफलता का फल भी हो सकता है। प्रयास रहित किसी भी प्राप्ति में जीवन को खुशी शायद ही हासिल हो सकती है। संघर्ष की ख़ास विशेषता है कि वो कुछ भी नहीं हासिल करके सन्तोषप्रद प्रसन्नता दे सकता है। हमारे देश में ‘प्रसन्नता’ प्राप्त करने के लिए संघर्ष करना जरूरी है। अगर वर्ल्ड हैपीनेस रिपोर्ट 2018 के आंकडों पर नजर डाले तो भारत संसार में खुशियां या प्रसन्नता के हिसाब से 156 देशों की सूचि में 133 नम्बर पर है। सन् 2017 की तुलना में यह संख्या 11 कम है। इस रिपोर्ट के अनुसार ” Happiness can change and does change, according to the quality of the society in which people live” । इससे आगे रिसर्च का दावा है आप जितने साल ज्यादा जीवन पाओगे उतने ही आप प्रसन्न रह सकोगे।

सफलता और खुशी जीवन पथ के दो अलग पथ दावेदार है। खुश रहने वाला आदमी हो सकता है किसी विशिष्ट क्षेत्र में सफल न हो पर जीवन मकसद में वो प्रसिद्धि न पाकर भी जीवन सफलकर्ता बन जाता है। सफलता को जो खुशियों की सौगात समझते है, वो शायद भ्रम की स्थिति में ज्यादा रहना पसन्द करते है।

जीवन पर रिर्सच करने वाले के अनुसार जीवन का कार्यकाल अंग्रेजी वर्णमाला के अनुसार U की तरह होता है। अगर इस तथ्य को स्वीकार किया जाय तो इसका मतलब बचपन और बुढ़ापा ज्यादा खुशीदायक होता है, अगर जीवन की स्थिति सही हो। खुशी का ग्राफ युवा अवस्था और अधेड़ अवस्था में कमजोर रहता है, शायद इसलिए कि ये जिम्मेदारियां निभाने का समय होता है। पर जब भारतीय परिवेश के अंतर्गत हम सोचे तो इस तरह के सिद्धान्त को पूर्णता से नहीं स्वीकार किया जा सकता क्योंकि आर्थिक असमानता के कारण बचपन को शुरु से ही संघर्ष बोध होना शुरु हो जाता है। हालांकि जीवन पर शोध करने वालों का यह तथ्य काफी सही है कि संघर्ष की अवधि 20 वर्ष से 50 वर्ष तक कई जिम्मेदारियों को स्वीकार करती है, अतः खुशियों का अनुभव कम होता है। 50 वर्ष के बाद जीवन को कुछ राहत जरुर मिलती है क्योंकि जिम्मेदारियों से भी राहत मिलनी शुरु हो सकती है और जीवन भी अनुभवि हो जाता है।

तथ्य हालांकि अलग अलग जिंदगी के अनुसार ही तय किये जाय तो जीवन में खुशियों का आधार युवा अवस्था में भी कम नहीं होता क्योंकि शरीर, मन मिलकर जब भी कुछ प्राप्त करने का प्रयास करते है तो ऊर्जात्मक हो जाते है, और हर आनन्द ऊर्जा में निहित रहता है। फिर भी जिंदगी तो स्थितियों के अनुसार ज्यादा खुशियों का वरण करना पसन्द करती है और उसके अनुसार जो माहौल मिल जाये तो उसकी सकारत्मक्ता क्षमता निरन्तर खुशियों का आनन्द उठा सकती है। कुछ तथ्य है, जिन पर चिंतन करना सही लगता है, हम यहां कुछ अति मुख्य तत्व पर कुछ अनुसन्धान करने की चेष्टा करते है, जिनके कारण जीवन आज का तनाव भोग रहा है।

आपसी सम्बन्ध:

जिस तत्व का खुशी निर्माण सबसे ज्यादा सहयोग वो है मानव के आपसी सम्बन्ध जिन्हें हम कई तरह के बन्धनों और रिश्तों के तहत निभाते है। Harved Study of Adult Development ने तीन बातों को ‘सम्बंधों’ से प्राप्त होने वाली खुशियों के तहत जिक्र किया है।

1. सामाजिक सम्बन्ध खुशियां प्राप्त करनें का अच्छा स्त्रोत है।
2. अकेलापन खुशियों का एक नम्बर दुश्मन है।
3. सबसे महत्वपूर्ण है कि अनगनित सम्बंधों का स्वार्थ भरा जाल। पर सच्चाई यह है, ‘वही सम्बन्ध खुशियों को सार्थकता दे सकता है, जिनमे आपस में विश्वासनिय का अतुलनीय संगम हो’।

जीवन में दुःख की कल्पना कोई भी नहीं करता फिर भी दुःख कहीं न कहीं से आ जाता, सुख की कल्पना सभी करते है, परन्तु सुख कल्पनामयी होकर भी अनिश्चित होता है, यह एक सही तथ्य है।

सही श्रम का सही कर्म की प्रधानता:।

आंतरिक खुशियों का निर्माण जीवन को कर्म व सत्य श्रम प्रदान समय के उपयोग से होना काफी सहज कहा जा सकता है। अनुसन्धानकर्ताओं के अनुसार परिश्रम करने से खुशियों के अलावा आत्म-सन्तुष्टि का अनुभव भी जीवन को हो सकता है, जो बेमिशाल होता है। ओक्सवर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर Jan-Emmanuel De Neve के अनुसार जीवन में कर्म व समय सन्तुलित उपयोग घर और कार्यक्षेत्र में करने की कुशलता को अर्जित कर आप सहजता से आनन्दमय जीवन जी कर खुश रह सकते है। हकीकत यह है हम अपनी तकनीकी कार्यकुशलता तो बढ़ा लेते है पर जब सवाल पारिवारिक जीवन का आता है, तो हम अपने कमजोर नजरिये के कारण जीवन को अनचाहा तनाव दे जाते है।
हमारी जीवन की डलिया खुशियों के फूलों की कमी महसूस न करे, इसलिए हमें खुश रहने वाले नुस्खों पर गौर करना चाहिए।

सामाजिक पर्यावरण :

स्वास्थ्य विशेषज्ञ प्रायः अपने मरीजों को कहते है, किसी भी बिमारी से आप तभी सफल संघर्ष कर सकते जब आप स्वयं को ज्यादा से ज्यादा खुश और तनाव रहित रह सकेंगे। सबसे कठिन परिस्थिति का अनुभव इस सन्दर्भ में आज की लाइफ स्टाईल है, ऐसा इसलिए कहा जा रहा है, क्योंकि सब कुछ पास रहते हुए भी आदमी आज अकेला हो रहा है। सिर्फ स्वयं को समर्पित और स्वार्थ की अधीनता को स्वीकार करने वाले के पास इससे ज्यादा और होगा भी क्या ? जो अपने लिए ही सिर्फ जीना चाहते है, उन्हें एक दिन जड़ से अलग होना ही पड़ता है। फूल के रंग से ज्यादा उसकी महक ही जीवन को प्रसन्नता दे सकती है। अगर हमें खुशी और प्रसन्ता की सही चाहत है, तो हमें कभी नहीं भूलना चाहिए जीवन में समय और संस्कृति का समन्वय रहना नितांत जरूरी है।अगर हम अपने भारत की बात करे तो आप निश्चिन्त ही मानेगे की कभी हमारे यहां संयुक्त परिवार प्रथा का संस्कारयुक्त वातावरण था, जिसमे अपनापन ज्यादा झलकता था, जो आज नदारद हो रहा है या हो गया है। इसकी कार्य प्रणाली में जो प्रमुख तत्व था वो था “एक की खुशी सभी की ख़ुशी”। आज की रूपरेखा जीवन की “मैं खुश सब खुश”। नतीजा न हम खुश न तुम खुश।

ये लेख किसी भी जीवन सिद्धान्त के विरुद्ध नहीं है, परन्तु सच्चाई को हम नजरअंदाज कर दे, ये भी गलत होगा। अतः सही प्रसन्नता के संस्कारिक तत्व है उन्हें हम अगर स्वीकार करते है, तो निश्चित है, हम कुछ खो नहीं रहे सिर्फ उस सच्चाई का दामन थाम रहे है जिसे हम आज की जीवन शैली के कारण कई मटमैले रंग दे चुके है।
आधुनिक शिक्षा को ज्यादा महत्व देने से पूर्व हमें प्रसिद्ध शतरंज के खिलाड़ी के इस कथन पर एक विशेष नहीं तो एक सरसरी नजर जरूर डालनी चाहिए, ” GENIUSES HAVE VERY LIMITED TOOLS SETS. THEY HAVE A HAMMER, AND THEIR GENIUS IS IN LOOKING FOR NAILS” …ADAM ROBINSON

लेखक* कमल भंसाली*