उल्फत की रानी 😛चुनाव महारानी🤑कमल भंसाली

उल्फत कि रानी
प्रफुलित चांदनी
निखर रही प्रखर रही
धवल भारत की वसुंधरा
गुंजन भरीआवाजों से सहम रही
चुनावी मौसम आया
नेताओं का जमघट छाया

दूर गगन में हजारों सितारे
नभ को फुसला रहे
चांदनी को प्राप्त करने के लिए
कसमें खा रहे
वादे कर रहे
दूर जैसे
नेताओं के भाषण
भारत की जनता को
सुनहरे भविष्य की कल्पना कर रहे

दूर एक टूटी फूटी झोंपड़ी में
एक माँ
भूखी नंगी संतान को
सहला सहला कर
बिन भविष्य सुला रही
कई आवाजें
देश को प्रगति पथ पर
ले जाने की बात कर रही
भ्रमित जनता से
आश्वासन मांग रही
उनके मूल्यवान वोट को
अवमूल्यन कर
हसीन ख्बाबों की सैर करा रही

मजबूरी में देश उनका विश्वास कर रहा
कह रहे
कल देश का फिर
भविष्य तय हो रहा
थोड़े दिन में सब कुछ बदल जायेगा
कोई बच्चा
खाली पेट न सोयेगा
हमारा यह वादा रहा
देश स्वर्ग हो जायेगा
आपको भी स्वर्ग में रहने का
कुछ और ही आनन्द आएगा

उल्फत कि रानी
पता नही किसे
कैसे नहा गई
भूखी माँ भी
बेखबर हो सो गई। ….कमल

Advertisements

👌श्रद्धांजलि👌जैन मुनि व राष्ट्र संत श्री तरुणसागरजी को 🙏कमल भंसाली

जैन मुनि व राष्ट्र संत श्री तरुण सागर जी के देवलोक पर आत्मिक श्रद्धांजलि। देश ने एक सच्चे क्रांतिकारी संत को खो दिया। उनकी किताबो में संग्रहित ” कड़वे वचन” जीवन की कड़वी सच्चाइयों के लिए अमृत का काम करने की क्षमता रखती है। ऐसे राष्ट्र संत का स्थान शायद ही दूसरा कोई निकट भविष्य में ले। श्रद्धांजलि सहित वन्दामि। ✍कमल भंसाली

” जिंदगी वो नहीं थी
जिसमे मैं झांका करता
जिंदगी वो ही थी
जो तुम्हारे उपदेशो से पाता
कल तुम थे जिस्म सहित
आज आत्मा में बस गये
नायाब हीरा थे चमन के
आज हर अंगूठी में गढ़ गये
है
“राष्ट्र सन्त”
तुम नहीं जानते जग को क्या उपहार दे गये
नमन करता, वंदना करता
अदृश्य हुई आत्मा को प्रणाम करता”…कमल भंसाली

♻गमगीन स्वतंत्रता♻⚜ कमल भंसाली✳

दिन उदास है शाम गमगीन
सोचता हूं कभी कहीं फिर
देश न हो जाये स्वयं पराधीन
सीमओं पर दुश्मन कर रहा परेशान
कमजोर हो रहा हर प्रशासन
आंतक का चारो और शासन
जंहा देखो जहर उगल रहा भाषण
शिक्षीत युवा नहीं समझ रहा सक्षम संस्कार
X ca , चोरी, झूठ,और नफरत का बढ़ रहा आकार
अपनी ही बहन – बेटी का कर रहा तिरस्कार
समाचारों में सिर्फ बलात्कार ही बलात्कार
क्या यही है ? हमारी स्वाधीन उन्नति का उपहार
क्या नहीं है ? ऐसी स्वतंत्रता बेकार
सोचो मेरे देशवासी भाई सात बार
फिर तैयार करो अपने जीने का अधिकार
तय करो देश को सुरक्षा ही हमारा जीवन आधार
प्राण से प्यारी स्वतंत्रता कभी नहीं खोयेंगे
चाहे जान जाये यह प्रण नहीं तोड़ेगे
हर भारतीय को मन प्राण से जोड़ेंगे
हम कुछ भी नहीं है सिर्फ स्वतंत्र भारतीय है
इसकी अखण्डता के सच्चे सिपाही है
🔶⬜♻
जय हिन्द जय हिन्द की सेना
“अब सिर्फ यही तय है “