🌐समय का फूल🌐 परिभाषा समय की🕤 कमल भंसाली

“समय” हर तरह के जीवन का सूक्ष्म हिस्सा होकर भी बहुत महत्व पूर्ण होता है जीवन की गतिविधियों के निर्माण में इसकी अनोखी भूमिका पर कोई प्रश्न नहीं किया जा सकता। समय को अनमोल मानकर भी मूल्यवान और कीमती समझा जाता है। समय का बिना कारण क्षय करने को उसकी तौहीन कहा जाता है। किसी भी सजीव और निर्जीव निर्माण प्रक्रिया में समय की उपयोगिता को पहले तय किया जाता है। मानव की उत्पत्ति से पहले ही समय ने अपनी भूमिका शुरु कर दी थी, हालांकि उसको मान्यता मानव ने ही दी। आज इंसान समय की कमी का रोना रो रहा है, पर इसका जिम्मेदार समय नहीं स्वयं मानव की अतृप्त लालसायें ही है।

आखिर समय में ऐसा क्या है कि हम उसका प्रभाव अपने जीवन में कम क्यों नहीं कर पाते ? समझने की कोशिश करे उस से पहले कुछ उसके बारे में जान ले। समय एक भौतिक राशि है जब समय बीतता तब घटनाये घटती है। इसलिए दो लगातार घटनाओं के होने था किसी गतिशील बिंदु से दूसरे बिंदु तक जाने के अंतराल ( प्रतिक्षानुभूति ) को समय कहते है। जिसे अंग्रेजी में Time भी हम कहते। समय को नापने के यंत्र को घड़ी या घटी यंत्र भी कहते है। यानी यह कहा जा सकता है कि समय वो भौतिक तत्व है जिसे घटीयंत्र से नापा जा सकता है। यह भी जानने की बात है कि समय को नापने का सुलभ घटीयंत्र पृथ्वी ही है, जो अपने अक्ष तथा कक्ष में घूमकर हमें समय का बोध कराती है, किंतु पृथ्वी की गति हमें दृश्यत् नहीं होती। पृथ्वी की गति के साक्षेप में हमें दो प्रकार की सूर्य गतियों को दृश्यत् कर सकते है। एक तो पूर्व से पश्चिम की तरफ पृथ्वी की ।परिकर्मा दूसरी पूर्व बिंदु से उत्तर से दक्षिण की ओर जाकर, कक्षा का भ्रमन। यह कहना सही होगा कि सूर्य से ही हम समय का बोध करते है।

हमारे जीवन का प्रमुख विषय जिस को हम हर दिन बार बार दोहराते रहते है कि हमारे पास समय नहीं, हम व्यस्त है। आज इस तरह के जुमलों का प्रयोग एक बीमारी बन गया है। इस व्यक्तित्व विरोधी धारणा को हमने अपने जीवन में इस तरह अपना लिया है कि हम अपने दुश्मन स्वयं ही बन गयें है। ऐसी धारणाओं को इंग्लिश में “Clutter” कहते है जिसे हिंदी में हम अव्यवस्था, हड़बड़ाहट, भाग दौड़ और दौड़ धूप जैसे शब्दों के रूप से परिभाषित करते है। गौर करे अगर तो हम अपने ही जीवन पर तो हम इस अव्यवस्था जैसी बिमारी से ग्रस्त हुए लगते है। आज के युग में कोई बिरला ही होगा जो इससे बचा हो। हकीकत यह है हमारी जिंदगी की स्थिति चूहों की दौड़ की तरह हो गई है यानी मंजिलों की चाह में बिना मंजिल की।

Epictetus ( एपिक्टेटस ) यूनानी महात्मा और दार्शनिक थे उनके अनुसार ” Man is not worried by real problems so much as by his imagined anexities about real problems”। भावनओं से अभिभूत हो इंसान अपनी कार्य क्षमता के साथ अपनी मानसिक समर्थता का अवमूल्यन करता है, और हताशा को शिकार हो जाता है। छोटे छोटे काम समय अनुकूल करना भूल जाता है, और अपनी दैनिक जीवन की गति को असमंजस में डाल देता है।

आज के युग में समय की कमी एक बिमारी बन गई है, हमने दैनिक जीवन में साधनों द्वारा विसर्जित किया इतना कचरा इकट्ठा कर लिया है कि हम तनाव ग्रस्त होकर जीने लगे। समझने की बात है, जीवन को शांति चाहिए वो ज्यादा दिन अशांत नहीं रह सकता। अगर जिंदगी को सही दिशानिर्देशित करना है तो हमें अपने जीवन का शुद्धिकरण करने की चेष्टा शुरु कर देनी चाहिए और प्राप्त समय का सन्तुलित उपयोग करने का मन बना लेना चाहिए।

समय के प्रति हमारे मन में श्रद्धा व सत्यता सबसे ज्यादा सही होगी तब ही हम समय की सीमितता की महिमा को समझेंगे। जीवन अतुलिनय है, इसे हम संयम, धैर्य और इसकी मौलिकता के अनुसार सहर्ष जीने का संकल्प करे और तो उसका व समय का तालमेल बना रहेगा।नहीं तो समय को अधिकार सदा रहेगा कि वो हमारे किये कर्मो का मूल्यांकन अपने नियमानूसार ही करेगा
क्योंकि वो अपनी गति से कभी विचलित नहीं होता। ध्यान रखे, हम हेनरी डेविड के इस कथन का ” व्यस्त रहना महत्वपुर्ण नहीं है, क्योंकि चींटिया भी व्यस्त रहती है, महत्वपूर्ण यह है आप किस कार्य में व्यस्त है”।
लेखक: कमल भंसाली

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.