💜अगर तुम💜बनते बिगड़ते सम्बन्धों की कविता✍ कमल भंसाली

जाने से पहले अगर एक बार मुड़कर देख लेते
दिल को शुकुन देते वक्त को गुनहगार न कहते
कल कुछ न बदलेगा कहकर जरा तसल्ली कर लेते
प्यार कभी नहीं मरता ये सोच फिर दरखास्त करते
💅💅💅
धुंधली होती यादें एकदिन सब कुछ भूल जाएगी चौराहे पर साथ खड़े थे उड़ती हुई धूल कह जाएगी
क्षीण होती मुस्कराहट कहीं सिमट कर रह जायेगी
दिल की गहराइयों में बिखरी स्मृतिया लौट आयेगी
💕💕💕
ऐसा क्या हुआ तुम्हारा दिल कभी न स्वीकार पाया
कदम थम गये जब भी नाम तेरा हवाओं में लहराया
तुम्हारे आँचल में सिमटी मजबूरियां बन गई दूरियां
आरजुओं में न होगी फिर हसीन प्यार की ये वादियां
💘💘💘
तुम्हारी मायूस आहटे सन्नाटों को पसन्द नहीं आई
खुश्क दिल से इल्जामों की गूंज दूर तक चली गई
भूली बिसरे स्पर्शो में इंतहा मौहब्बत है जो समाई
बेरुखी ही सही तेरी पर दिल न समझे इसे रुसवाई
💟💟💟
जाना ही तय है अगर दिल की महफ़िल से
तो इतना ही कहेंगे जाना पर आहिस्ता से
नयनों से फिर कहीं भी झांकना विश्वास से
प्यार कोई खेल नहीं समझना इसे सरलता से
💜💜💜
अब भी कहते रुक कर मुड़ जाओं एक बार फिर से
फलसफा प्रेम का जिंदगी को समझाओं एतवार से
प्यार कभी मरता नहीं सदाबहार बनाओं इसे फिर से
टूटे ना आशियाना दिल का गले लग कहो इशरत से
💝💝💝
रचियता✍💖 कमल भंसाली💖

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s