🌸नये वर्ष के नये संकल्प🌸 भाग 2 🌲संकल्प अनुसन्धान🌲 ✍कमल भंसाली

दोस्तों, नये साल की दस्तक हमारे जीवन में नई ऊर्जा की चाह पैदा करती है। हमें कुछ पुरानी गलत आदतों से दूर होने को प्रेरित करती है । तीन मुख्य संकल्प क्षेत्र पर हम यहां चर्चा अवश्य करेंगे जो आज के आर्थिक, सामाजिक और व्यवहारिक युग के वातावरण में हमें सक्षम बनाते है। हमारे दैनिक जीवन हम में जितने भी छोटे छोटे संकल्प करते है, उनकी धुरी इन तीन क्षेत्रों के अंतर्गत ही ज्यादा घूमती है। आइये, जाने उनके बारे में विस्तार से।

1. स्वास्थय:-

समय का सदपुयोग करना आज की सबसे बड़ी समस्या हमारे जीवन चिंतन की है, आज साधनों के अति प्रयोग से जीवन काफी निराश हो रहा है। पिछले कुछ दसक से आपसी मानवीय सम्बंधों में भावुकता भरे प्रेम के अदृश्य होने से जीवन की अनुरुदनि घुटन बढ़ रही है। मोबाइल और डिजिटल क्रान्ति की तेजी से जीवन को इतना भी समय नहीं मिल रहा कि वो जिस्म और दिमाग की व्यथा भरी समस्याओं पर सही चेतना से अवलोकन कर सके। इसका सबसे बड़ा प्रभाव इन्सान के दिमाग पर पड़ रहा और जीवन गलत आदतों का शिकार हो रहा है। पुराने समय में जहां शारीरिक श्रम जीवन को स्वस्थ रखता, आज दिमागी और मानसिक मेहनत से आँखों को सबसे ज्यादा कृत्रिम रोशनी सहन करनी पड़ती है । स्वास्थ्य तनाव तथा थकावट का अनुभव हमारा दैनिक जीवन ज्यादा कर रहा है। नये साल में हमें स्वास्थ्य पर ज्यादा ध्यान देना जरूरी है। हम चाहेंगे, नया साल हमारे स्वास्थ्य के लिए स्वस्थ ऊर्जात्मक सवेरा लाये और वो तभी संभव हो सकता है जब हम सिर्फ “Early Riser” ही न बने अपितु कुछ समय सुबह की अनुपम सैर, योग और सेवा कार्य आदि में लगाये। हमार सारे संकल्प इस सिद्धांत के तहत होना चाहिए ” पहला सुख निरोगी काया” । जीवन तभी सब चाहित साधन भोग सकता है, जब वो स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से सम्पन्न रहे। हम आज मिलावट के युग में तो रह ही रहे है, पर साथ में विदेशी और शीघ्र बनने वाले व्यंजनों के शौकीन भी हो गये है, जो हमारी पाचनशक्ति के लिए एक खतरनाक नई चूनोती है। स्वास्थ्य और स्वाद दोनों का सन्तुलन बनाये रखने का अगर नये साल में सही प्रयास हो तो साल भर की स्वास्थ्य चिंताए काफी कम हो सकती है।
अतः नया साल का प्रथम संकल्प स्वास्थ्य के लिए स्वास्थ्य कारी हो यह चाहत किसी और की नहीं हमारे प्रिय जीवन की है, समझने की बात है। बाकी जीवन को जब तक सांस सही मिलती रही तब तक वो मजबूरी से भी जी लेगा, अपना यह कर्तव्य अच्छी तरह से समझता है। हम न समझे, तो क्या ?

2. आर्थिक मजबूती:-

आज अर्थ का दर्द ही संसार में ज्यादा फैला है, यह दर्द भी विचित्र होता है, कहीं इसकी बढ़ोतरी से लोग परेशान है तो कहीं इसकी कमी से । आज साधन इजाद करने वाला इंसान उसका गुलाम हो चूका है। कृत्रिम शारीरिक सुख के अधीन हो मानव अर्थ का दास बन चूका है। इसका जाल भी इतना मजबूत है कि साधारण व्यक्तित्व वाला इन्सान जिंदगी भर असन्तुष्टि के कारण तनाव ग्रस्त हो जाता है। हर नये वर्ष मे इसके प्रति हमारी चेतना एक सन्तुलित नीति तय करने का अनुरोध करती है। इस नीति में प्रमुख तत्व सिर्फ संयम ही रहे तो जीवन जरूरतमय अर्थ की ही कामना करेगा तथा इसके अनुसार अनुपालन से मितव्यता का महत्व हमारे जीवन को सदाबाहर स्वस्थ महक से प्रफुलित रखेगा। दोस्तों, गुजारिस है, आप अपने आनेवाले साल को बेहतर बनाना चाहते है तो इस सिद्धांत पर गौर कीजियेगा ” Money saved is money earned” । आज क्रेडिट कार्ड, बैंक व आपसी ऋण एक बिमारी बन कर हमें गलत पथ का दावेदार बनाने की निरन्तर कोशिश करे उससे पहले हमें इनके प्रति एक संयमित दिशा निर्देश तालिका बना लेनी चाहिए। जीवन को सुख और शांतिमय बनाना है तो ये स्वीकार करना सही होगा, ” जितनी बड़ी चदर उतना ही पैर फैलाना”। समझने की बात है, ज्यादा चिंताए हमें शीघ्र ही चिता का रास्ता दिखा सकती है । आनेवाले साल से पहले संयमित जीवन और बचत के महत्व के संकल्प अपना कर हम जीवन को सार्थकता और मजबूती दे सकते है। यह बात भी हमें ध्यान रखनी होगी कि हमारे नये संकल्पों में जरूरी अर्थ उपार्जन के प्रति नकारत्मक्ता कभी नहीं होनी चाहिये, संयम और मितव्यता कभी ऐसी सलाह नहीं देती। आज का आर्थिक दौर में कमाने के साधनों की कोई कमी नहीं है, वैसे ही अर्थ खोने के खतरे भी बढ़ रहें है, दोनों ही परिस्थितयों के प्रति जागरूक रहना सही होगा। लालच, जुआ, सट्टा, अति विश्वास, झूठी विलासिता और भी नुकसान के तत्वों से बचना हमारे लिए बेहतर होगा। शेयर बाजार के अच्छे निवेशक बने पर नकली सौदो के जुआरी नहीं। अपनी मासिक बजट योजना को उचित मॉर्गदर्शन दीजिये। आजकल बचत के सुरक्षित हजारों तरह के उत्पादन बाजार में आ रहे है, अध्ययन कर, ज्ञान बढ़ा कर, जानकारों के साथ विचार विमर्श कर हम अपनी तनाव रहित पूंजी का निवेश इनमें कर बढ़ोतरी करे तो शायद नया साल हमें एक सुनहरे भविष्य से सज कर हमारे जीवन को सुख और सम्पन्नता का अहसास दे सके।

3. समय और कर्म :

कर्म इंसान की सकारत्मक ऊर्जा तैयारी करता है और समय का सदुपयोग जीवन के प्रति स्वस्थ आस्था प्रदान करता है, ऐसा जीवन शास्त्र से सम्बंधित जानकारी रखनेवाले लोग अच्छी तरह से जानते है। आज आदमी की कीमत उसका कार्य तय करता है। कर्मशील इंसान जीवन में इसकी भूमिका को भूलता नहीं और शारीरिक स्वास्थ्य की अनुकूलता तक अपने चुने हुए व्यवसाय, नौकरी या अन्य तरह के कामों में जीवन को उलझाये रखता है, इसका कारण समय के साथ तालमेल बढ़ाना । जीवन में निराश के आगमन का प्रथम कारण ही है, समय का उपयोग न कर, खाली रहकर वक्त नष्ट करना। इंतजार ही एक ऐसा तत्व है जिसको ज्यादा सहन करना असहज होता है, निराश जीवन इसका जल्दी शिकार होता है। नये साल के लिए तय किये संकल्पों को योजनामय करने के लिए समय और कर्म दोनों ही महत्व रखते है ।हमें यह जानकर ही आगे बढ़ना होगा कि शारीरिक श्रम और दिमागी काम का आपसी संतुलन रहने से समय की भी कीमत बढ़ जाती है। हम जीवन के अच्छे और खराब क्षेत्रों पर अपना प्रभुत्व व सन्तुलन कायम रख सकने में सफल भी हो सकते है। सवाल उठता है, कैसे जीवन स्तर को बढ़ाने के लिए हम समय का प्रयोग करे ? इस सन्दर्भ में दो तथ्य हमारा साथ निभा सकते है वो है शारीरिक चेतना और आत्मिक ज्ञान, फर्ज बन जाता है हमारा हम आलस्य और झूठ से इनको दूर रखे।

हर दिन की उपयोगिता को समझकर जीवन समर्थित कार्य को समय देने के बाद भी कुछ समय जो बचे, उसमें सुबह की शुद्ध वातावरण की प्रकृतिमय सैर, योग, ध्यान को उचित स्थान देना सही होगा। साप्ताहिक समय में अच्छा साहित्य अध्ययन, अपने पसन्दीदा मन को खुश रखने वाले कार्य मसलन दोस्तों और अपनों के साथ मनोरंजन देने वाले प्रोग्रामों में सम्मलित होना, जिससे दैनिक तनावों से राहत मिले। साल में एक बार अपने पसन्दीदा पर्यटन के लिए सोचना अच्छा संकल्प कहा जा सकता है। आशावादी परिणाम प्राप्त करने के लिए हमें सी.बी.एडवर्ड के इस कथन को ध्यान से पढ़ना होगा, ” Insight on getting the very best out of what you have to do. Be positive in your attitude. Merely negative cricism never got anyone anywhere. Moaning (कराहना) groaning (दुःखी होकर कराहना) makes work ten time harder. It is not only job you are doing makes life good. It is the spirit you put in it. ध्यान देकर अगर हम सोचे हम स्वयं के लिए भी नहीं दूसरों के लिये भी उतने ही महत्वपूर्ण बन सकते है, जब तक हम कर्म की सही मीमांसा समझते है। वैसे भी गीता के इस श्लोक से भी जीवन में कर्म का महत्व स्वयं ही समझ में आ जाता है।

“कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन
मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोस्त्वकर्मणि ”

सीधे शब्दों में भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन के माध्यम से संसार के हर प्राणी को ये ज्ञान प्रदान किया है ” तेरा कर्म में ही अधिकार है ज्ञान निष्ठा में नहीं । कर्ममार्ग में कर्म करते तेरा किसी भी अवस्था में कर्मफल की इच्छा नहीं होनी चाहिये न ही तू कर्मफल का हेतु बन और तेरी अकर्म में भी आसक्ति नहीं होनी चाहिये”।

समय के अनुसार किये अच्छे कर्म सफलता और असफलता दोनों ही अवस्था में सन्तोष दायक जीवन को गतिमय रखते है। आनेवाले साल की सुगमता भी परिवर्तन पर निर्भर होती है, तय हमें करना होगा परिवर्तन की शुरुआत कब और उसकी दिशा किस और होगी ! *** क्रमश…..

लेखक: कमल भंसाली

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.