👉नये वर्ष के नये संकल्प👈भाग 1👌कमल भंसाली

“दोस्तों” वर्तमान साल या वर्ष हमसे शीघ्र ही विदा लेगा इस समझ के साथ कि हमें भी कभी न कभी धरती के जीवन से विदा होना है, अवधि या आयु के अनुसार। साल के सफर की एक निश्चित अवधि होती परन्तु जीवन अपनी अनिश्चितता के कारण कभी भी विदा हो सकता है। बिता समय अपनी महत्वपूर्णता के कारण भविष्य में भी याद किया जाता है, ठीक वैसे ही महत्वपूर्ण व्यक्तित्व जीवन के बाद भी याद किया जाता है। हर समझदार इंसान अपने जीवन को सुख और समृद्धि के साथ कुछ इस तरह से उपयोगी बनाना चाहता है कि उसका जीवन मिसाल के तौर पर लम्बे समय तक याद किया जाए। अगर हम चाहे तो नया साल आने की आहट से पहले हम अपने बीते साल की अपनी उपलब्धियों और असफलताओं की स्वयं समीक्षा और मूल्यांकन कर आने वाले साल को और बेहतर और प्रभावशाली बना सकते है। इस लेख का कत्तई यह उद्देश्य नहीं की जीवन का मूल्यांकन किसी असफलता को दुःखित मन से याद कर किया जाय, क्योंकि आज के युग की गतिविधिया काफी हद तक पिछली शताब्दियों के वनिस्पत तेजी से बदल रही है और इंसान को वर्तमान के साथ तालमेल बिठाना पड़ता है, तो कहीं न कहीं असफल परिणाम आ ही जाते। रिश्तों में घटती मधुरता इसका ताजा उदाहरण कह सकते है। मानव स्वभाव से लेकर जीवन सम्बन्धी साधनो और सम्बंधों में भी परिवर्तन दृश्यत् हो रहे है, इसलिए स्वभाविक हो जाता युग परिवर्तन के अनुसार स्वयं को बदलना। चूँकि आज हमारी सफलता और असफलता जीवन के हर क्षेत्र को प्रभावित करती है, अतः विदा लेने वाला वर्ष चाहता है कि वो मूल्यांकित हो जिससे उसे किसी न किसी रुप में याद किया जा सके। दोस्तों, पहले की तरह परम्परागत आय के साधन अब बीते युग की बात हो गई, मशीनीकरण के निर्माण की प्रक्रिया में इंसानी हाथ की जगह दिमागी कुशलता मुख्य होती जा रही है। कितना कुछ भी बदल गया परन्तु मृत्यु के हाथों से बचना आज भी मुश्किल है, अतः आनेवाले साल को स्वास्थ्य के अंतर्गत सन्तुलित ढंग से जीना भी जरुरी बन जाता है। अगर हम सच्चाई के साथ बीतते वर्ष पर गौर करेंगे तो अनुभव किया जा सकता है कि हमारा व्यक्तित्व कहीं न कहीं कमजोर रहा है, और आशा के अनुरूप परिणाम नहीं प्राप्त हो रहे है या फिर आर्थिक, पारिवारिक या फिर सामाजिक रुप कोई समस्या जिसका समाधान हम नहीं कर पा रहे है। दोस्तों, आनेवाले साल में आप इन समस्याओं से जरूर निजात पाना चाहेंगे, पर कैसे ? यही हमारी चर्चा का विषय होना चाहिए और हमें ज्यादा समय अब नहीं खो कर अभी से नये वर्ष में भविष्य की उन्नति की तरफ ध्यान देना चाहिए।

सबसे पहले जरूरी हो जाता है कि नये साल की शुरुआत से पिछले महत्वपूर्ण कार्यक्रम जो अधूरे रह गए उन सब को दुबारा क्रमवार स्थापित करने की कोशिश होनी चाहिए। उनके प्रति हमसे क्या लापरवाही हुई ? उस पर गहनतम चिंतन के बाद यह तय करना चाहिए नये साल में उनके लिए स्वयं में क्या क्या तकनीक, मानसिक, शारीरिक सुधार की जरूरत है ? उन समाधानों पर अमल करने के लिये व्यक्तित्व को नकारत्मकता से कैसे बचाव किया जा सकता है,? इस तथ्य पर हमें पूर्ण चेतना से ध्यान रखना होगा। E.H Harriman के इस संदेश से हमें सहमत होना चाहिए ” Much good work is lost for lack of a little more” दोस्तों, जैसे हर सफलता हमें मोहित करती वैसे ही हर असफलता चाहे किसी भी क्षेत्र क्यों न हो, पर हमें भीतर तक तोड़ती है। सबसे प्रथम इस चिंतन को एक मनोवैज्ञानिक दर्शन के माध्यम से तय करना चाहिए की जीवन फूलों से नहीं कड़े उसूलों से जीया जाता है। संसार, देश और सामाजिक दिशा निर्देश के अनुसार ही हमारा नया साल का नया चिंतन स्कारत्मकता, संयम आदी गुणों से युक्त होना चाहिये। मनोवैज्ञानिक मानसिक क्षमता का अद्भुत संगम जब गतिमान होगा तो निश्चित है, नया साल हमें काफी प्रभावकारी और चमत्कारी परिणाम देकर प्रफुलित कर देगा।

हम आगे बढ़े, उससे पहले Harold Sherman की इस नसीहत पर जरा गौर करते है ” Yours life is yours to make of it what you will be; but dare to be yourself at all times; and do not allow any person or force of circumstances to keep you from doing the thing you want most to do- for therein lies your greatest possibility of success.”

आनेवाले साल का स्वागत हमारा इस दृष्टि से करना सही हो सकता है “नया साल, नई राहे, नई मंजिले”। हम इस संकल्प ( Resolve or resolution )के साथ अगर जिंदगी को नियंत्रित कर उसे अगर एक सुहाने सफर की तरफ मोड़ दे तो किसी भी रुप में गलत कदम न होगा। हम अपने स्वास्थ्य को आलस की जगह स्फूर्ति देना तय कर ले तो बाहरी व्यक्तित्व भी मुखर हो सकता है। हम अच्छे परिधान हमारी संस्कृति के अनुसार धारण कर सामजिक क्षेत्रों की तरफ अपना प्रवेश दर्ज करा सकते है। हम नई किताबों से आज के सन्दर्भ का मनोवैज्ञानिक अध्ययन कर परिवार व समाज को नई दिशा की चेतना दे सकते है। हम नये शब्दों को आत्मसात कर अच्छे वक्ता बन दार्शनिक स्वरूप अपने जीवन को प्रदान कर सकते है। दोस्तों अगर यह सब नहीं कर पाये तो कोई बात नहीं परन्तु हम यह संकल्प जरूर ले सकते है, कि हम कोई भी गलत, चिंतन कोई गलत काम नहीं करेंगे, जिससे हमारी वर्तमान जिंदगी प्रभावित हों।

परिवर्तन करना और परिवर्तन की बात करना दोनों में फर्क होता है, संकल्प करना और उसे सक्रिय कर निभाना भी आसान नहीं होता। अतः सबसे पहले जरुरी है, हम अपना स्वयं का मनोवैज्ञानिक अध्ययन करे। चलिए थोड़ी देर के लिए इस पथ की जांच कर लेते है, अपने ही सन्दर्भ में। मनोविज्ञान हमें सिखाता है कि हम अपनी भावनाओं की रुपरेखा को समझे और उनका उपयोग जीवन सुधार में करे। मसलन हमारी कुछ पुरानी आदतें (Habits)जिनसे हमारा आत्मविश्वास को कमजोरी प्राप्त होती है, हम उनमे सुधार का संकल्प कर सकते है। हम कुछ ऐसे काम को दृश्यत् कर सकते है, जिनसे परिवार, दोस्तों, और रिश्तेदारों का विश्वास हम में बढ़ जाये और सुखद सामाजिक जीवन का अनुभव हम करने लगे। “भावना” (Emotions) “रवैया” (Attitude)और “प्रतिक्रिया” इन तीन शब्दों के तहत अगर हम रोज की जिंदगी को जीये तो हम अपना दैनिक कार्य सिल सिलेवार कर सकते है।

बिना किसी टालमटोल के किये कार्य से आंतरिक शक्ति बढ़ती है और इस और जीवन को सुरक्षित वातावरण भी मिल सकता है। इससे हम स्वयं समस्याओं के समाधानों के अविष्कार कर्ता बन सकते है क्योंकि हमें अपनी अक्षमताओं का ज्ञान होता है और उन्हें स्वीकार करने की हिम्मत का भी अंदाजा होता है। इस से अपना व्यक्तिगत जीवन भी अक्षुणता प्राप्त कर सकता है जीवन की विविध समस्याओं की स्थिति अनुसार कभी जरूरत पड़ने पर ऐसे इंसान क्रोध, विरोध कर के भी अपनजनों में प्रिय रह सकते है। अतः हमारे नये वर्ष के सभी संकल्प हमारे व्यक्तित्व के अनुरूप कैसे हो, यह हमें मनोविज्ञान की जानकारी रखने से प्राप्त हो सकते है। –क्रमश–लेखक: कमल भंसाली

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.