🌹अजनबी प्यार 🌹 कमल भंसाली🌹

पूनम की चांदनी सा उसका चेहरा

     ☄   ☄☄🌞☄☄☄☄

पहले प्यार का दर्द आज भी गहरा 

☄☄☄☄🌞☄☄☄☄

याद आ रहे बीते लम्हों के अहसास

☄☄☄☄☄🌞⭐☄☄☄☄

उसे भूल जाऊ, असफल मेरे सारे प्रयास

⭐☄☄☄☄☄🌞☄☄☄☄⭐

                 🌹
हसीन सितारों से सजी नशीली रात
मेरे दिल में छाये, कुछ रंग भरे जज्बात
इंद्रधनुषी अप्सरा जैसी, थी खूबसूरत
आज भी याद है, मुझे उसकी सूरत
थी, कोई, छोटी सी प्यारी मुलाक़ात

वो कौन थी, मुझे नहीं ख्याल
थी कोई भी, पर थी हसीना बेमिसाल
उसकी आँखों की रंगत
में, मुझे नजर आती जन्नत
कल वो मेरी हो जाए
मांगता रहता, दिल मेरा मन्नत

अफ़सोस, ऐसा कुछ नहीं हुआ
जगा सपना, सोया ही रह गया
मैं तो दीवाना हुआ
पर, नहीं हुई वो दीवानी
खत्म हो जानी थी, यहीं यह कहानी
पर एक तरफा प्यार, ऐसा होने नहीं देता
प्रथम प्यार हजार दर्द अनजाने दे जाता
एक अजनबी रिश्ता
कितनी सहजता से
दिल की गहराइयों में उत्तर जाता

हाँ, नाजो से पली
वो, गुलाबी कली
सामने वाली गली में रहती
कभी कभी ही बाहर निकलती
आदत थी उसकी,
आँख झुकाकर चलती
दो चोटी में समाये बाल, नागिन लगते
उसके सुर्ख लब कुछ भी कहने से डरते
चेहरे पर गुलाब खिलते
मानों गालो के गड्ढों में
दरवाजे जन्नत के खुलते
चाल उसकी कयामत की
नाजायज, दुश्मन लगती
कुछ दिन फिर नहीं, दिखती

कशिश से भरपूर
किसी मोड़ पे
जब कभी टकराती
लगता, मुझे
आँखों ही आँखों से जैसे कहती
डरती हूं, साजन, पर
प्यार तुम्ही से हूँ, करती
अगले पल
पास से गूजर जाती
कुछ नहीं कहती
अंगुली से आँचल संभाल गुजर जाती
सन्नाटे में, अपनी आहट छोड़ जाती
बदन की महक, फिजा में बिखर जाती
भावनाओं के जंगल में अकेला छोड़ जाती

एक दिन किस्मत हुई, जरा मेहरवान
गुजर रहा उसकी गली से
सामने था,उसका घर
खुली थी, एक खिड़की
वो, बेठी थी, कुहनियों के सहारे
दर्पण में निहारे
अपना सलोना चेहरा
जैसे खोज रही, राज गहरा
पड़ी उसकी, मुझ पर नजर
हल्की सी मुस्कान, लबो पर गई ठहर
उठाई उसने, चाहत की नजर
कसम उसकी
आँखों में मेरे छा गई बहार
लगा वादा कर गई
मिलने का इस बार
मानों जवानी को मिली, सौगात
बैचेन रहने लगा दिल, दिन रात
बदलती करवटे देती, अनेक जज्बात

पता नहीं, जूनून था या उसका प्यार
प्रार्थनामय, हो करता, रोज उसका इंतजार
सही कहा, प्यार नहीं उतरने वाला बुखार
सूरत उसकी, सामने आती बार बार

फिर जो होना था, वही हुआ नहीं
जो नहीं होना था, वही हुआ
अनकहा प्यार को खोना था, कहीं
खो गया, इस जहां में कहीं
तलाश में तमाम उम्र गुजर गई
वो, फिर कभी नजर नहीं आई
एक हल्की सी मुस्करहाट से
चीर कर, मेरा दिल ले गई
नहीं जानता, आज वो कहां
मेरे टूटे के दिल के सिवाय
सच, कुछ नहीं जानता, दोस्तों
अब अपनी प्रथम हसरतों के सिवाय…
रचियता ….कमल भंसाली

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.